पत्रकार अपने पेशे से कभी निवृत्त नहीं होता : जगदीश उपासने

by- ASHUTOSH TRIPATHI


JAGDISH UPASNE IN JAGRAN INSTITUTE OF MANAGEMENT AND MASS CUMMUNICATION

कानपुर : कानपुर के जागरण इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड मास कम्युनिकेशन में पत्रकारिता कर रहे छात्रों के उज्जवल भविष्य के लिए बीते सोमवार को जागरण कॉलेज के लक्ष्मी देवी ऑडिटोरियम  में  दिशानिर्देश कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पधारे वरिष्ठ पत्रकार एवं माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति जगदीश उपासने ने अपने अनुभव को पत्रकारिता के छात्रों के साथ साझा किया।

इस कार्यक्रम में जागरण कॉलेजऑफ़ मैनेजमेंट एंड मास कम्युनिकेशन के डायरेक्टर एस पी त्रिपाठी एवं जागरण कॉलेज की चैयरमेन रितु गुप्ता तथा जागरण कॉलेज के सीईओ जैन गुप्ता वा कई अध्यापक व अध्यापिकाएं भी उपस्थित रहीं। इस दिशानिर्देश कार्यक्रम में उपासने जी ने पत्रकारिता के सभी छात्रों को समाज से जुड़े रहने एवं कठिन परिश्रम करने के लिए प्रेरित किया। उपासने जी ने कहा की समाज और पत्रकार एक दुसरे के पूरक हैं क्योंकि समाज के बिना न तो पत्रकारिता संभव है और न ही पत्रकारिता के बिना समाज क्योंकि समाज में कई ऐसे विद्वान लोग हैं जिन्हें बहुत ज्ञान है किन्तु वो लोग अपनी बातों को दूसरों के समक्ष उस ढंग से प्रस्तुत नहीं कर पाते जिस  ढंग से एक पत्रकार प्रस्तुत करता है।

पत्रकारिता में विस्वसनीयता का है महत्वपूर्ण स्थान 

उपासने जी ने कहा की एक सफल पत्रकार बनने के लिए आपको अपने पाठको में विस्वास उत्पन्न करना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यदि पाठक को आप पर भरोषा होगा तभी वह आपकी खबर पढ़ना चाहेगा।


पत्रकारिता के मूलभूत सिद्धांत कभी नहीं बदलेंगे 

उपासने जी ने छात्रों के प्रश्नो के उत्तर देते हुए कहा की पत्रकारिता के मूलभूत सिद्धांतों में कभी बदलाव नहीं आएगा जिस तरह आज के समय में अथवा आज से करीब 20 वर्ष पूर्व के समय में पत्रकारिता में जिस सिद्धांतों पर कार्य होता रहा है वो हमेसा होता रहेगा।

एक पत्रकार को खबर पहचानना आना चाहिए  

उपासने जी ने कहा की यदि हमें पत्रकार बनना है तो जिस तरह एक कुत्ता दूर से सूंघ कर ही विस्फोटक सामग्री का पता लगा लेता है उसी तरह पत्रकार को भी दूर से खबर को पहचानना आना चाहिए एक पत्रकार होने के नाते हमें यह जानना चाहिए की हमारें  आस-पास कौनसी ऐसी घटना है जिसे हम एक खबर के या आर्टिकल के रूप में प्रस्तुत कर सकतें हैं। 

हर कार्य में अपने आपको सर्वश्रेष्ठ समझिये 

छात्रों के प्रश्नो के उत्तर देते हु उपासने जी ने कहा की  किसी भी पत्रकार को हमेशा अपने आपको सर्वश्रेष्ठ समझ कर ही सारे कार्य करने चाहिए  ताहि वह आपने आपका तथा खुद के द्वारा लिखे हुए लेखों को दूसरों के समक्ष  ज्यादा मजबूती से रख पायेगा।





Post a Comment

0 Comments