NASA's Insight spacecraft Land on Mars, Now Mars's Deep Interior Structure Will Be Found

 
➤ 26 नवम्बर को नासा का अंतरिक्षयान इनसाइट ने 6 महीने के लम्बे इंतजार के बाद 48.2 करोड़ किलोमीटर कि दूरी तय कर मंगल गृह पर सफलतापूर्वक उतरा 

➤ मंगलग्रह पर स्पेसक्राफ्ट उतारने का यह 1976 से अब तक नासा का 9वाँ प्रयास था

आख़िरकार 6 महीने के लम्बे अंतराल के बाद नासा ने सोमवार को अपना एक अन्तरिक्ष यान (इनसाइट) लाल धरती वाले मंगल गृह पर सफलतापूर्वक उतार दिया जिसका मकसद मंगल गृह कि आतंरिक संरचना का पता लगाना है। करीब 48.2 करोड़ किलोमीटर के सफ़र के बाद यह अंतरिक्षयान मंगलग्रह पर उतरा इसे धरती से मंगलग्रह पहुँचने में करीब 6 महीने का समय लगा.

पासादेना,कैलिफोर्निया में जेट नियंत्रक प्रयोगशाला के साइंटिस्टस को जब उनकी कामयाबी का पता चला तो वह अपनी-अपनी कुर्सियों से खड़े होकर उछलते तथा चिल्लाते हुए बाहर आकर खुशी के साथ अपनी सफलता की जानकारी सभी को दी.


इनसाइट की मंगल पर लैंडिंग की पूरी प्रक्रिया सात मिनट तक चली। भारतीय समयानुसार सोमवार रात 1.24 बजे इनसाइट मंगल की सतह पर उतरा। सात मिनट तक पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस प्रक्रिया को लाइव देखते रहे। जैसे ही इनसाइट ने मंगल की सतह को छुआ, सभी वैज्ञानिक खुसी से झूमने लगे। नासा के प्रशासक जिम ब्रैडेंस्टाइन ने इनसाइट के टच डाउन का एलान करते ही सभी को बधाई दी।

                                      

नासा ने इनसाइट की लैंडिंग लाइव दिखाई मंगल की कक्षा में पहुँचने के समय इनसाइट की स्पीड 19800 किलोमीटर की थी जो लैंडिंग के वक्त घटकर 8 किलोमीटर प्रतिघण्टा हो गयी। इनसाइट के इस मिशन मंगल का खर्च तकरीबन 7044 करोड़ रूपए का था।

इनसाइट के रवाना होने के साथ ही दो मिनी सेटेलाइट भी इसके पीछे चलती रहीं, जो हर पल अपडेट देती रहीं। पृथ्वी से तुलना करें तो मंगल का भार एक तिहाई और घनत्व 30 % से काम है।

Post a Comment

2 Comments