इमरान की गुगली में फंस गया भारत : शाह महमूद कुरैशी

दिल्ली : पाकिस्तान अपनी हरकतों से कभी बाज नहीं आ सकता एक तरफ तो पाकिस्तान के पीएम इमरान खान भारत की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाना चाहते हैं तो दूसरी और उन्हीं के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भारत को लेकर नापाक बयान देते हैं .

ताजा मामला है गुरुवार का जहां अफगानिस्तान के बाद भारत को दूसरा महत्वपूर्ण पड़ोसी बताया गया तथा महमूद कुरैशी ने कहा कि इमरान खान ने पाक पीएम बनते ही भारत के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया और खत लिखा कि आईए मिल बैठकर बातें करें और वह न्यूयॉर्क में मिलने पर राजी होते हैं लेकिन लगता है कि वहां की सियासत फस गई है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि बृहस्पतिवार को भारत की ऐतिहासिक करतारपुर के शिलान्यास कार्यक्रम में भारतीय सरकार की मौजूदगी सुनिश्चित करने के लिए इमरान खान ने एक गूगली फेंकी थी.



कुरैशी की यह टिप्पणी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के 1 दिन पहले दिए गए बयान पर आई है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ता को फिर से शुरू करने की संभावना को स्पष्ट रूप से यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि पाकिस्तान जब तक भारत के खिलाफ सीमा पार से अंजाम दी जाने वाली आतंकवादी गतिविधियों को नहीं रोकता तब तक बातचीत संभव नहीं है मुस्कुराते हुए पाक विदेश मंत्री ने कहा कि आपने देखा और दुनिया ने भी कि कल इमरान खान ने करतारपुर की यात्रा थी और उसका नतीजा यह हुआ कि जो हिंदुस्तान मिलने से कतरा रहा था उसे दो मंत्रियों को भेजना पड़ा. वहीं पाकिस्तान में इमरान सरकार ने आम चुनावों में जीत के बाद अपने शुरुआती 100 दिन पूरे कर लिए इसी मौके पर कुरैशी ने क्रिकेट की शब्दावली का इस्तेमाल करते हुए कहा कि इमरान ने एक उंगली डाली और भारत ने दो मंत्रियों को पाकिस्तान भेज दिया .

Post a Comment

0 Comments